Aa Gaya Hero Movie Review In Hindi and English

Aa Gaya Hero Movie Review In Hindi and English

165
0
SHARE
Aa Gaya Hero Movie Review In Hindi and English

STORY​: Supercop Ravindra (Govinda) is called in to tackle the law and order situation in a city after a villain unleashes his wrath. But to put an end to crime, the cop has to bring out the actor within.
REVIEW: How do you get over Govinda’s image from the 90’s films? Simple- you don’t! His brand of comedy seems a tad outdated, which explains why it must have been difficult for the super entertainer to make a dashing comeback. Aa Gaya Hero is a testament to why his films may not have worked of late.
With an inexistent story, all the film does is glorify Govinda. The actor tries hard to bring in his trademark swag as he plays the James Bond-like cop. He is fearless and has a way of convincing everyone. As a supercop, he introduces something called an ‘Abhinay Chakra’ to the Home Minister. The whole idea is to act out a planned operation in order to catch a supervillain, whose only identity is a maniacal laugh.
As is expected from a Govinda movie, there are song and dance sequences, over-the-top dialogues and the likes. But in Aa Gaya Hero, he tries to eclipse all the mindless comedies of the 90’s while doing a supposedly serious role, dressed in track suits and tuxedos.
There are actors like Ashutosh Rana, Milind Shinde, Makarand Deshpande and Murli Sharma who are completely wasted. The film is full of inconsequential comedy that goes on for two hours and if you survive by the end of it, a ‘Finisher’ trophy is the least the makers can give you.
Not to forget, our Bond-esque Chi Chi woos multiple arm-candies and breaks into a dance every five minutes throughout the movie. Unfortunately, besides the actor’s trademark dance moves, there is nothing worth watching here. The ‘hero’ might just need to make another comeback soon and hopefully a more ‘relevant’ one this time.

(source by timesofindia.indiatimes.com)

समीक्षा

हीरो आ गया है। लेकिन इस बार धमक नहीं है। फिल्‍म की कहानी एक सुपरकॉप की है। नाम है रविंद्र। एक विलेन है, जिसके पाप का घड़ा भर गया है। इसे फोड़ने के लिए रविंद्र को बुलाया जाता है। अपराध पर लगाम लगानी है। लेकिन इस क्रम में सुपरकॉप के अंदर का एक्‍टर भी बाहर आता है।

गोविंदा 90 के दशक के सबसे पॉपुलर एक्‍टर रहे हैं। बॉलीवुड में नंबर-1 की रेस से इतर उन्‍होंने पर्दे पर सबसे अध‍िक बार ‘नंबर-1’ को जीवंत किया है। फिर चाहे बात ‘हीरो नंबर-1’ की हो या ‘बेटी नंबर-1’ की। एक दौर था जब उनके कॉमिक टाइमिंग की दीवानगी सिर चढ़कर बोलती थी। लेकिन उनके हंसी के नुस्‍खे अब समय की भेंट चढ़ गए हैं। आउडेटेड। यही कारण है कि अब हरकतें बचकानी लगती हैं।

पूरी फिल्‍म गोविंदा का महिमामंडन

‘आ गया हीरो’ बताती हैं कि क्‍यों गोविंदा के लिए फिर से कमबैक इतना मुश्‍क‍िल है। फिल्‍म उस इच्‍छापत्र की तरह है, जो यह साबित करती हैं कि उनकी फिल्‍में अगर बाद के दौर में नहीं चलीं तो क्‍या कारण रहे। ‘आ गया हीरो’ में कहानी तो चलती रहती है, लेकिन साथ ही पूरी फिल्‍म गोविंदा का महिमामंडन करती है। वह जेम्‍स बॉन्‍ड टाइप कॉप बने हैं, लेकिन पुराना स्‍वैग है कि आ नहीं पाता।

सुपरविलेन, क्राइम और अभिनय चक्र

रविंद्र निडर है। वह सबको अपनी बातों से संतुष्‍ट कर सकता है। सबको मना सकता है। अपराध पर लगाम के लिए गृह मंत्री के सामने ‘अभि‍नय चक्र’ जैसे नए विचार का जिक्र करता है। इसके तहत सुपरविलेन को पकड़ने के लिए एक ऑपरेशन चलाना है और एक्‍ट करना है।

पूरी फिल्‍म में जमकर है गोविंदा का डांस

अब जैसा कि यह गोविंदा की फिल्‍म है। इस लिहाज से गीत-संगीत का उत्तम प्रबंध तय है। जमकर डांस है। खूब सारे गाने हैं। डायलॉग्‍स भी पंच लाइन्‍स के साथ हैं। लेकिन ‘आ गया हीरो’ एक बिना दिमाग की हंसोड़ फिल्‍म है। 90 के दशक का चार्म नहीं है।

बेसिर-पैर की कॉमेडी

फिल्‍म में आशुतोष राणा, मिलिंद शिंदे, मकरंद देशपांडे और मुरली शर्मा जैसे मंझे कलाकार हैं। लेकिन उनकी मौजूदगी को पूरा लाभ नहीं उठाया गया है। दो घंटे से अधि‍क समय तक यह फिल्‍म आपको बेसिर-पैर की कॉमेडी पर हंसाने की कोशि‍श करती है। और आप हंसने की बजाय इसे झेलते हैं।

इस हीरो को फिर से आना होगा!

गोविंदा पर्दे पर हर पांच मिनट में आपको डांस करते नजर आते हैं। सही मायने में फिल्‍म में गोविंदा के ट्रेडमार्क डांस स्‍टेप्‍स के अलावा और कुछ भी देखने लायक नहीं है। अब हीरो आ तो गया है, लेकिन दमदार कमबैक के लिए इसे फिर से आना होगा। हां, अब जब आए तो थोड़ा समय के अनुसार आना होगा। कुछ प्रासंगिक सा।

(source by hindi.filmipop.com)

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY