Home Interviews देश के मुद्दों पर कितना बोलते हैं बॉलीवुड सितारे

देश के मुद्दों पर कितना बोलते हैं बॉलीवुड सितारे

12
0
SHARE
How much do Bollywood speakers on language issues
‘सत्या’ में ‘शूल’ का अक़्स ढूंढने निकलेंगे तो मनोज बाजपेयी आपको ‘मिसिंग’ नज़र आएंगे क्योंकि फ़िल्मों में अपने किरदार में गुम हो जाने के लिए मशहूर हैं मनोज बाजपेयी. बॉलीवुड के बुद्धिजीवी कलाकारों की सूची में मनोज बाजपेयी का नाम भी शामिल किया जाता है, लेकिन देश के गंभीर मुद्दों पर क्या यही बुद्धिजीवी कलाकार अपना पक्ष रखने पर यक़ीन करता है? आजकल आम आदमी से लेकर नामचीन चेहरों के पास एक ऐसा हथियार है जिसका प्रयोग कर वह देश के तमाम मुद्दों पर अपनी राय देने से कतराते नहीं.

यह हथियार है सोशल मीडिया. इस पर कई कलाकार अपनी बात स्पष्ट रूप से रखने के लिए मशहूर हैं तो कई यहां भी चुप्पी साधने में अपनी समझदारी समझते हैं. तो मनोज बाजपेयी इन दोनों में से किस श्रेणी में आते हैं? दरअसल, मनोज बाजपेयी लेकर आ रहे हैं फ़िल्म ‘गली गुलियां’ जिसके लेखक और निर्देशक हैं दिपेश जैन. कहानी एक मानसिक रूप से विक्षिप्त शख़्स की है. इस फ़िल्म के बारे में बीबीसी से ख़ास बातचीत करने के दौरान मनोज बाजपेयी ने ऐसे ही कुछ तीखे सवालों का सामना किया.


लेकिन सबसे पहले उन कलाकारों की बात जो ‘किसी से नहीं डरते’ इस कैटेगरी में आते हैं.

अनुराग कश्यप

सोशल मीडिया में आलोचना का ज़िक्र हो और अनुराग कश्यप का नाम ना आए, ऐसा हो नहीं सकता. अनुराग कश्यप अपने ट्वीट्स के ज़रिए अपने विचार रखने के लिए जाने जाते हैं. साल 2016 में जब करण जौहर की फ़िल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ में पाकिस्तानी कलाकार फ़वाद ख़ान के काम करने के कारण देश में पाकिस्तानी कलाकारों को बैन करने की बात शुरू हुई थी तो अनुराग कश्यप ने कुछ इस अंदाज़ में अपना पक्ष रखा था.

यही नहीं वह देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ बोलने से भी नहीं कतराते. हाल में उनके द्वारा किया गया ये ट्वीट उसकी बानगी है.

https://twitter.com/anuragkashyap72/status/787596271867527168

अभिजीत भट्टाचार्य

बॉलीवुड सिंगर अभिजीत भट्टाचार्य हिंदुत्व पर अपने विचारों को लगातार ट्विटर पर व्यक्त करते रहते थे. उनके अकाउंट को ट्विटर ने बैन भी कर दिया था जिसके बाद एक इंटरव्यू में उन्होंने ट्विटर पर हिंदुओं के ख़िलाफ़ और सरकार के ख़िलाफ़ बोलने वालों को एंटी-मोदी, एंटी-हिंदू करार दिया था.

स्वरा भास्कर

हाल ही में 13 अगस्त को जेएनयू के छात्र उमर ख़ालिद पर हुए हमले के बाद बॉलीवुड कलाकार स्वरा भास्कर ने ट्वीट करते हुए देश की सुरक्षा प्रणाली पर सवाल उठाए थे.


यही नहीं वह देश के कई मुद्दों पर अपनी राय रखती आई हैं

कंगना रनौत

बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद पर खुल कर बोलने वाली कंगना रनौत भी अपने विचार रखने से परहेज़ नहीं करतीं. हाल ही में सदगुरु के साथ हुई उनकी एक ख़ास बातचीत को लोगों ने सोशल मिडिया पर शेयर किया जिसमें कंगना उदारवादियों की आलोचना करती नज़र आ रही हैं.

हालांकि इसके बाद लोगों ने ट्विटर पर उन्हें ‘दक्षिणपंथियों की स्वरा भास्कर’ बता डाला.

https://twitter.com/nikhilbhaijaan/status/1027765102672470017

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here